Monday, September 29, 2008

Ghazal :Dr.Ahmad Ali Barqi Azmi





Ghazal :Dr.Ahmad Ali Barqi Azmi

Meri janib nigahein uski hai duzdeedah duzdeedah

Junoon e shauq mein dil hai mera shoridah shoridah

Na poochh aye hamnashin kaise guzarti hai shab e Furqat

Main hoon Aazurdah khatir woh bhi hai ranjidah ranjidah

Gumaan hota hai har aahat pe mujhko uske aane kaa

Taswwur mein mere rahta hai woh khwabidah khwabidah

Woh pahle to na tha aisa use kya ho gaya aakhir

Nazar aata hai woh aksar mujhe sanjadah sanjidah

Na poochho meri is waraftagi e shauq ka aalam

Khlish dil ki mujhe kar deti hai namdidah namdidah

Bahu pur kaif tha uska tasvvur shaam e tanhaaii

Nigah e shauq hai ab muztarib nadidah nadidah

Safar dasht e tamanna ka bahut dushwar hai BARQI

Pahunch jaoonga main lekin wahaan laghzidah laghzidah


--------------------


ग़ज़ल
डा. अहमद अली बर्की़ आज़मी

मेरी जानिब निगाहेँ उसकी की हैँ दुज़दीदह दुज़दीदह
जुनूने शौक़ मेँ दिल है मेरा शोरीदह शोरीदह

न पूछ ऐ हमनशीँ कैसे गुज़रती है शबे फ़ुर्क़त
मैँ हूँ आज़ुर्दह ख़ातिर वह भी है रंजीदह रंजीदह

गुमाँ होता है हर आहट पे मुझको उसके आने का
तसव्वुर मेँ मेरे रहता है वह ख़्वाबीदह ख़्वाबीदह

वह पहले तो न था ऐसा उसे क्या हो गया आख़िर
नज़र आता है वह अकसर मुझे संजीदह संजीदह

न पूछो मेरी इस वारफ़्तगीए शौक़ का आलम
ख़लिश दिल की मुझे कर देती है नमदीदह नमदीदह

बहुत पुरकैफ़ था उसका तसव्वुर शामे तनहाई
निगाहे शौक़ है अब मुज़तरिब नादीदह नादीदह

सफर दश्ते तमन्ना का बहुत दुशवार है बर्क़ी
पहुँच जाऊँगा मैँ लेकिन वहाँ लग़ज़ीदह लग़ज़ीदह

1 comment:

mehek said...

बहुत पुरकैफ़ था उसका तसव्वुर शामे तनहाई
निगाहे शौक़ है अब मुज़तरिब नादीदह नादीदह
bahut badhiya