Sunday, October 12, 2008

ग़ज़ल : शहनाइयाँ : डा. अहमद अली बर्क़ी आज़मी



moHtaram Barqi SaaHib aadaab!

kese mizaaj haiN? nihayat shaandaar Ghazal se nawaza hai. chooTee zameen meN yeh aek kaamyaab koshish hai. nudrat-e-bayaN aor re'naee-e-kheyaal bhee khub hai. is khubSurat Ghazal par dilee daad aor mubarak baad qubool keejiye.

khush raheeN
Wassalam
Muzaffar A Muzaffar



ग़ज़ल
डा. अहमद अली बर्क़ी आज़मी
हैँ किसी की यह करम फर्माइयाँ
बज रही हैँ ज़ेहन मेँ शहनाइयाँ

उसका आना एक फ़ाले नेक है
ज़िंदगी मेँ हैँ मेरी रानाइयाँ

मुर्तइश हो जाता है तारे वजूद
जिस घडी लेता है वह अंगडाइयाँ

उसकी चशमे नीलगूँ है ऐसी झील
जिसकी ला महदूद हैँ गहराइयाँ

चाहता है दिल यह उसमेँ डूब जाँए
दिलनशीँ हैँ यह ख़याल आराइयाँ

मेरे पहलू मेँ नहीँ होता वह जब
होती हैँ सब्र आज़मा तन्हाइयाँ

तल्ख़ हो जाती है मेरी ज़िंदगी
करती हैँ वहशतज़दा परछाइयाँ

इश्क़ है सूदो ज़ियाँ से बेनेयाज़
इश्क़ मे पुरकैफ हैँ रुसवाइयाँ

वलवला अंगेज़ हैँ मेरे लिए
उसकी बर्क़ी हौसला अफज़ाइयाँ

मुर्तइश. कंपित, सब्र आज़मा. नाक़ाबिले बरदाश्त
नीलगूँ , नीली सूदो ज़ियाँ . नफ़ा नुकसान
gazal
da. ahamad ali barqi aazami
hain kisi kee yah karam farmaiyan
baj rahi hain zehan men shahanaiyan

usaka aana ek fale nek hai
zindagi men hain meri ranaiyan

murtaish ho jata hai tare vajood
jis ghadi leta hai vah angadaiyan

usakee chashame nilagoon hai aisi jheel
jisakee la mahadood hain gaharaiyan

chahata hai dil yah usamen doob jane
dilanashin hain yah khayal aaraiyan

mere pahaloo men nahin hota vah jab
hoti hain sabr aazama tanhaiyan

talkh ho jati hai meri zindagi
karati hain vahashatazada parachhaiyan

ishq hai soodo ziyan se beneyaz
ishq me purakaif hain rusavaiyan

valavala angez hain mere lie
usakee barqi hausala afazaiyan

murtaish. kanpit, sabr aazama. naqabile baradasht
nilagoon , nili soodo ziyan . nafa nukasana

No comments: