Sunday, November 23, 2008

Ghazal "Baang e Jaras":Dr.Ahmad Ali Barqi Azmi





ग़ज़ल
डा. अहमद अली बर्क़ी आज़मी

इतना न खींचो हो गया बस
टूट न जाए तारे नफस

थीरीँ बयानी उसकी मेरे
घोलती है कानोँ मेँ रस

खाती हैँ बल नागिन की तरह
डर है न लेँ यह ज़ुलफेँ डस

उसका मनाना मुशकिल है
होता नहीँ वह टस से मस

वादा है उसका वादए हश्र
अभी तो गुज़रे हैँ चंद बरस

फूल उन्होँ ने बाँट लिए
मुझको मिले हैँ ख़ारो ख़स

सुबह हुई अब आँखेँ खोल
सुनता नहीँ क्या बाँगे जरस

उसने ढाए इतने ज़ुल्म
मैँने कहा अब बस बस बस

बर्क़ी को है जिस से उम्मीद
उसको नहीँ आता है तरस


Ghazal : BAANG-e-JARAS


Dr. Ahmad Ali Barqi Azmi

Itna na kheencho Ho gaya Bas
Toot na Jaaye Taar-e-Nafas

Sheeren Bayani Uski Mere
Gholti hai KaanoN main Ras

Khati hai Bal Naagin ki Tarah
Darr hai na lein yeh Zulfein Das

Uska Manaa-na Mushkil Hai
Hota nahin woh Tas se Mas

Wada hai Uska Wada-e-Hashr
Abhi to Guzre hain Chand Baras

Phool unhoN ne Baant Liye
Mujhko Mile hain Khaar o Khas

Subh hoyi Ab Aankhein khol
Sunta nahin kya Bang e Jaras

Usne itne Dhaaye Zulam
Main ne kaha ab bas bas bas

Barqi ko jis se hai ummeed
Usko nahin aata hai taras

1 comment:

"अर्श" said...

मखता तो कमाल का लिखा है आपने ..
बहोत खूब साहब ..
ढेरो बधाई आपको